ढल रही है रात………….

Standard

ढल रही है रात  धीरे-धीरे ,
सपने रहे है उड़ मेरे आस पास
जैसे हो मेरे भावनाओं की परछाईया

रात और दिल के बीच है
मेरे अपने भ्रम की दीवार
पता है इससे के ढल रही है रात
फिर भी दिल कहता है
रुक जाये रात की ये
गहरी और सुनसान पलें
रात  की इन बेदर्द  पलों में
रोना चाहता हू मैं
पर अब नहीं है आसूं इन आखों में

रात के अकेलेपन का है
एहसास मुझे पर अब
दिल को मेरे देती है सुकून
ये अकेलापन जो है बिखरी
चारो ओर मेरे

मुझे क्या था पता के
आने वाली है एक तूफानी सुबह
इस  खामोश से रात के बाद
रात की खामोसी में मैंने
सुनी बारिश के टिप टीपने को
लगा जैसे रो रहा है वों आसमां

अँधेरे के गहराई में पल पल
टूट रहे थे सपने मेरे
लगा जैसे दूर कहीं
कोई हो ले रहा नाम मेरा

रात ने किये उजागर मेरे
कमज़ोर नग्न आत्मा के
खोखलेपन को
जिसने दिखाई मेरे काल्पनिकता को,

खुद को काल्पनिक अर्थो में छिपाने के लिए
में गया था सब कुछ भूल
आज फिर लगा मुझे एक खालीपन मेरे आस पास
जैसे मेरे स्मृति की गहेरी गलिओं में उठा हो
एक दर्द ,

रात के ढलने में और
मेरे टूटने में जैसे रहा न कोई फर्क
ढल रही रात , मेरे हर एक आँसू के साथ

रौशन

इस चाँद की चांदनी तले!!

Standard

अपने झरोखे से देखा मैंने ,
चाँद छुपा हुआ पीपल तले
जाने क्यूँ उठी एक कसक मन में के काश,
होते तुम भी अभी यहाँ साथ मेरे
देख उस आधे चाँद को
मैंने कहा खुद से,
आज भले है जिंदगी
मेरी आधी अधूरी बिन तेरे,
कभी तो आएगी पूर्णिमा की चांदिनी
मैं तो तेरे इन्तेज़ार में ,
आज भी हूँ बैठा इस किनारे
ठीक उस चकोर की तरह ,
जो बैठ उस पीपल के ताने पे
देख रहा है उस चंद को,
उसकी चांदनी तले
जाने कब होगी ये दूरियां खत्म ,
कहीं उन्ही न बीत जाये जिंदगी मेरी
तेरे आने के इन्तेज़ार में,
माना मैंने कहाँ नहीं तुझसे
तेरे जाने से पहले,
पर अब रह नहीं सकता
एक पल बिना तेरे,
काश मैंने रोक लिए
होते तेरे कदम जाने से पहले ,
तो न होता मैं आज
बेवस और लाचार ,
इस चाँद की चांदनी तले

 

रौशन

फिर से है जेहन में एक सवाल ….

Standard

बुझती  हुई  लौ  में
रूकती  हुई  साँसों  में
आपके  हर  ग़मों  के
आहों  में  मैं  नहीं

मैं  तो  हु  आपके
हर  अच्छे पलों  का  साथी
नहीं  में  आपके  ग़मों  का  साथी
क्यूँ ? ये  मैं  भी  न  समझ  पाया  अब  तक

अब  ये  हो  मानव  मन  की  चंचलता
जो  देख  ख़ुशी  मुड़  जाता  है ..
ग़मों  को  दिखा  के  अपनी  पीठ
क्या  है  सही  और  क्या  है  गलत
रख के उसको ताक पे

कब  समझा  है  ये  इंसान के
मन  है  सबसे  बड़ा  दुश्मन
आपका …क्यूँ ?
कभी  ये  खुद  से  पूछ  के  देखो
जिंदगी  की  ख़ुशी  में  है  पल  भर  की  ख़ुशी
पर  दुसरे  के  ग़मों  में  दे  के  साथ
जो  है  मिलती  ख़ुशी  वो  किसी   वरदान  से  कम  नहीं

रौशन

हर एक पल कि…

Standard

Devil:- क्यूँ..जिंदगी  में कभी कभी ऐसे मुकाम आते है…
जहाँ सबके होते हुए भी….एक खालीपन का रहता है एहसास …..
क्यूँ…लगती है  राहें  सुनी सुनी…..
क्यूँ लगती है जिंदगी एक बीरान ..
क्यूँ लगता है के परछाईयाँ भी नहीं है साथ मेरे,
आखिर  क्यूँ ?

Angle:- अपनी नज़रो को बदल के देखो
खालीपन  का नामो   निशान  न होगा…..
रास्ते  होंगी मुस्किल  पर
हर अच्छे  दोस्त का साथ होगा.

Devli:- कितनी दूर  निभाओगे  साथ आप…..
हर पल देखा है अपनों   को बिछड़ते इन राहों  में….
हर पल की है यही सचाई ….
क्या करें एक पल की है ये दुनिया…
हर एक पल कि है यही कहानी

Roushan n Richa

किसी ने क्या खूब कहा

Standard

किसी ने क्या खूब कहा मुझपे,
दिल्लगी दीवार से तो परी क्या चीज़ है

कभी हमारे मन को टटोल के भी तो देखो
दिल्लगी दीवार से है परी से क्यूँ  नही ये पूछ  के तो देखो

हमने खोया बहुत इस जिंदगी में
कुछ तो अपने साथ रहने दो

परी तो परी है आज नही कल उड़ जानी है
दीवार का है क्या वो तो अपनी जगह है रहा सदा

अगर न हो दीवार बीच  में
तो क्या बाहर  क्या अन्दर

हमने तो की थी मोहबत  एक परी से
पर उसने थी की दिल लगी हमसे

रौशन