फिर से है जेहन में एक सवाल ….

Standard

बुझती  हुई  लौ  में
रूकती  हुई  साँसों  में
आपके  हर  ग़मों  के
आहों  में  मैं  नहीं

मैं  तो  हु  आपके
हर  अच्छे पलों  का  साथी
नहीं  में  आपके  ग़मों  का  साथी
क्यूँ ? ये  मैं  भी  न  समझ  पाया  अब  तक

अब  ये  हो  मानव  मन  की  चंचलता
जो  देख  ख़ुशी  मुड़  जाता  है ..
ग़मों  को  दिखा  के  अपनी  पीठ
क्या  है  सही  और  क्या  है  गलत
रख के उसको ताक पे

कब  समझा  है  ये  इंसान के
मन  है  सबसे  बड़ा  दुश्मन
आपका …क्यूँ ?
कभी  ये  खुद  से  पूछ  के  देखो
जिंदगी  की  ख़ुशी  में  है  पल  भर  की  ख़ुशी
पर  दुसरे  के  ग़मों  में  दे  के  साथ
जो  है  मिलती  ख़ुशी  वो  किसी   वरदान  से  कम  नहीं

रौशन

Advertisements

हर एक पल कि…

Standard

Devil:- क्यूँ..जिंदगी  में कभी कभी ऐसे मुकाम आते है…
जहाँ सबके होते हुए भी….एक खालीपन का रहता है एहसास …..
क्यूँ…लगती है  राहें  सुनी सुनी…..
क्यूँ लगती है जिंदगी एक बीरान ..
क्यूँ लगता है के परछाईयाँ भी नहीं है साथ मेरे,
आखिर  क्यूँ ?

Angle:- अपनी नज़रो को बदल के देखो
खालीपन  का नामो   निशान  न होगा…..
रास्ते  होंगी मुस्किल  पर
हर अच्छे  दोस्त का साथ होगा.

Devli:- कितनी दूर  निभाओगे  साथ आप…..
हर पल देखा है अपनों   को बिछड़ते इन राहों  में….
हर पल की है यही सचाई ….
क्या करें एक पल की है ये दुनिया…
हर एक पल कि है यही कहानी

Roushan n Richa

एक सवाल ..खुद से या फिर आपसे

Standard

आज भी इंसान
इंसान से नहीं करते दोस्ती

दोस्ती के लिए भी वो देखते है
धर्म और जाति इंसान की

आखिर दोस्ती क्या है?
मैंने जहाँ तक है जाना इसे,

दोस्ती है दिलों का रिश्ता
फिर इस दिल की जाति है क्या?

आखिर है इस दिल का धर्म क्या
हर वक्त ये सवाल है मेरे जेहन में

आज भी बचे लेते है जन्म
बिना धर्म और जाति देख के

फिर हम कौन है होते
उन्हें धर्म और जाति पे लड़ाने वाले

मेरा तो है एक सपना
हो एक ऐसा जहान अपना
जहाँ इंसानियत हो जाति सबकी
और मानवता को धर्म सबका
रौशन