Poetry By Richa

Standard

Advertisements

कशमकश यादों और भूल जाने की !!!

Standard

किताबो के पन्नों में रख
लिया है आपने उन्हें
कहीं वो भी न बिखर जाये
सूखे फूलों जैसे और
गिर पड़े उन पन्नों से
वो और उनकी यादें

कहीं वो उड़ न जाये
सूखे पतों जैसे
उन  मदमस्त हवा के झोकें के साथ

वो सूरज की पहली
किरण के साथ
उन चिडयों जैसे
जो बनाते है बसेरा
रात भर के लिए

रखना है तो उन्हें रखे अपनी
जिंदगी के सबसे हसीं पलों में
इस बहाने दो पल तो मिलेंगे
मुस्कुराने के लिए

बात न कर रात
की खामोशिओं की
कर बात उन जगमगाते जुगनू की
जो देते है एहसास तारों का
इस धारा पर

सुबह की पहली किरण
और रात के ओस की बुँदे
दिखाते है, दुनिया के सबसे
अनमोल रत्न की एक झलक

बात नहीं उन्हें याद करने की
बात है ये की कब आपने भुला
दिया उन्हें जो थे आपके इतने करीब
जिनसे थी खुशी आपकी
जिनके गम से थे आप गुम्जादा

जिंदगी रहे या न रहे
रहते है याद जिंदा सभी की
यादों में बसना और बसाना
है थोडा मुश्किल,
पर ए मेरे दोस्त ये
नामुमकिन तो नहीं

रौशन

दोस्ती…

Standard

दोस्ती है क्या
ये जाना दोस्तों से
दूर आने के बाद

कभी सोचा नहीं था मैंने
के मेरी जिंदगी होगी
इतनी उदास

अब जाके जाना मैंने
के क्यूँ वो कहते है
के रौशन तू रह नहीं सकता
अकेले तन्हा

काश ऐसी न होती जिंदगी के
मुझे आना पड़ता दूर अपनों से

रौशन

उस चाँद की चांदनी तले

Standard

अहसास तो होता है,
तेरे होने का पर दरमियाँ
नहीं होती खत्म ,
चाँद की क्या करू में बात
जाके  पूछ ले कोई चकोर से
जिससे है अहसास चांदनी का
पर दरमियाँ है की कम न होती ,
हर वक्त पल पल मर रही है
जैसे जिंदगी ,
उस चाँद की चांदनी तले

रौशन

मोहब्बत का असर

Standard

kitu:-

ना वो आसमा,
ना वो मोती,
ना वो जुगनू है ए-रहगुज़र
ये बस है मोहब्बत का असर ,

Roushan:-

मोहब्बत का असर कहो या
कहो इससे मेरा दीवानापन
या कहो मेरी दीवानगी की हद ..
पर जैसे मैंने देखा उसे शायद
देखा हो किस्सी और ने उसे वैसा…

Roushan n Kitu

दोस्त की दोस्ती………

Standard

Amardeep:- दोस्त की दोस्ती याद आती है  दूर जाने के बाद

Roushan:-   तन्हाई में आ  जाते है आंशु
दोस्त के आने पे याद

कभी हंसाती कभी रुलाती है दोस्त की याद
कभी मीठे सपनो  में, कभी आहों
में आ जाती है उनकी याद

Amardeep “Rahul” n Roushan “DEVIL”

एक सवाल ..खुद से या फिर आपसे

Standard

आज भी इंसान
इंसान से नहीं करते दोस्ती

दोस्ती के लिए भी वो देखते है
धर्म और जाति इंसान की

आखिर दोस्ती क्या है?
मैंने जहाँ तक है जाना इसे,

दोस्ती है दिलों का रिश्ता
फिर इस दिल की जाति है क्या?

आखिर है इस दिल का धर्म क्या
हर वक्त ये सवाल है मेरे जेहन में

आज भी बचे लेते है जन्म
बिना धर्म और जाति देख के

फिर हम कौन है होते
उन्हें धर्म और जाति पे लड़ाने वाले

मेरा तो है एक सपना
हो एक ऐसा जहान अपना
जहाँ इंसानियत हो जाति सबकी
और मानवता को धर्म सबका
रौशन